HomeGENERALInvoice Discounting/Bill Discounting की पूरी जानकारी (कम रिस्क में ज्यादा रिटर्न)

Invoice Discounting/Bill Discounting की पूरी जानकारी (कम रिस्क में ज्यादा रिटर्न)

Investing हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है और जब बात निवेश की हो रही हो तो हमारे सामने निवेश के अनेक विकल्प भी उपलब्ध रहते है जिनमे से हम अपनी समझ के अनुसार किसी भी विकल्प का चयन कर सकते है। शेयर मार्किट में जब हम इन्वेस्ट करते है तो हमें अनेक प्रकार के विकल्प मिलते है तथा हम अनेक प्रकार की कंपनियों में निवेश कर सकते है लेकिन शेयर मार्किट की अनिश्चितता के कारण ही शायद ऐसा होता है कि लोग ऐसे निवेश विकल्पों को ढूंढते रहते है जो शेयर मार्किट से जुड़े हुए न हो लेकिन रिटर्न अच्छा देते हो। आज हम ऐसे ही के निवेश विकल्प Invoice Discounting की चर्चा करने वाले है जो शेयर मार्किट से किसी भी रूप में जुड़ा हुआ नहीं है लेकिन इसमें लगभग 11-12% तक का रिटर्न हमे मिल जाता है।

invoice discounting

 

Invoice Discounting क्या है?

इसको अच्छे से समझने के लिए आइये हम एक बोतल बनाने वाली कंपनी Gupta Bottles का उदाहरण लेते है। Coca Cola द्वारा Gupta Bottles को 1 लाख बोतलें बनाने का ऑर्डर दिया जाता है लेकिन शर्त ये है कि इस काम का भुगतान 90 दिनों के बाद किया जाएगा। चूँकि Gupta Bottles अपने इतने बड़े ग्राहक के साथ अच्छे सम्बन्ध बनाना चाहती है इसलिए Gupta Bottles यह डील स्वीकार कर लेती है लेकिंन यहां पर Gupta Bottles के लिए 90 दिनों तक कर्मचारियों की तनख्वाह तथा अन्य खर्चों को मेन्टेन करना एक चुनौती है।

यह पर Gupta Bottles के लिए लोन लेने के 2 विकल्प है। या तो वह किसी बैंक से संपर्क करें या फिर Third Party से लोन ले। चूँकि बैंक्स लोन तभी देते है जब कोई कंपनी उनके तय मानकों पर खरी उतरती हो तथा इन छोटी कंपनियों (MSMEs) के पास उतनी अच्छी क्रेडिट रेटिंग्स बगेरा होती नहीं कि बैंक इनको लोन दे सकें। इसलिए Gupta Bottles एक Third Party के पास जाता है तथा उनको अपना 10 लाख का Invoice दे देता है तथा बदले में वह third Party इनको 9 लाख रूपये हाथोहाथ प्रदान कर देती है तथा Third Party 1 लाख रूपये का प्रॉफिट कमा लेती है।

स्टार्टअप जगत में नए हैं? ‘स्टार्टअप की दुनिया में जानने योग्य 21 शर्तें’ (21 Start-up Terms You Should Know About) में विस्तृत जानकारी प्राप्त करें जो हर नए उद्यमी को पता होनी चाहिए। यह आपके व्यापारिक यात्रा में मदद करेगा।

इसी को ही हम Invoice Discounting के नाम से जानते है जहां एक कंपनी दूसरी कंपनी या व्यक्ति को एक Discount पर अपना Invoice बेच देती है। इस तरीके का उपयोग करके हमारे देश की अनेक MSMEs अपना फण्ड इकठ्ठा करती है।

Invoice Discounting के लिए कहा निवेश करें?

आजकल ऐसे अनेक ऑनलाइन पोर्टल उपलब्ध है जहां निवेशक तथा MSMEs एक दूसरे से मिलते है तथा उनके बीच Deals होती है। ऐसे ही के प्लाटफोर्म का नाम है TradeCred . अगर हम इससे पहले वाले उदाहरण को ही लेते हुए TradeCred की कार्यशैली की बात करें तो यहां पर Coca Cola का वो 10 लाख वाला Invoice 20% के Discount पर 8 लाख में खरीदा जाएगा तथा फिर इसी Invoice को एक Third Party को 8 लाख में बेच दिया जाएगा। 2 लाख के प्रॉफिट को Third Party तथा तथा TradeCard के बीच में बाँट लिया जाएगा जहां Third Party को लगभग 11.5-12% Interest मिल जाएगा तथा 8-8.5% Interest TradeCard को मिल जाएगा।

Invoice Discounting में जोखिम

अगर हम किसी भी निवेश के विकल्प की बात करें तो उनमे एक जोखिम तो होती ही है। इसी प्रकार इस Invoice Discounting में भी एक रिस्क तो रहती ही है जिसको हम इस प्रकार से समझ सकते है –

1. ब्रांड का महत्व

हमने जिस उदाहरण की चर्चा की थी वो Coca Coal का Invoice था। चूँकि Coca Cola एक बड़ी कंपनी है तथा बहुत सारे लोग इसके बारे में जानते है इसलिए उस Invoice की धनराशि को प्राप्त करना आसान था। इसके विपरीत अगर Invoice किसी छोटी सी कंपनी का होता जिसके बारे में लोग ज्यादा जानते नहीं हो तथा वह कंपनी भी नई हो तो उस Invoice की अमाउंट को प्राप्त करना थोड़ा मुश्किल होता। अगर Brand का नाम तथा उनकी बाजार में प्रतिष्ठा अच्छी है तो उनके Invoice की अमाउंट को प्राप्त करना आसान होता है।

इसके बाद हमें यह पता लगाना चाहिए कि वो कंपनी TradeCred पर कितने लम्बे समय से एक्टिव है तथा उस कंपनी की इस प्लेटफार्म पर पेमेंट की हिस्ट्री कैसी है। सामान्यतः MNCs के पेमेंट में देरी न के बराबर होती है तथा इसलिए Third Party निवेशकों के लिए रिस्क बहुत कम रहती है।

2. Insolvency (दिवालियापन)

इसको समझने के लिए आइये एक और उदाहरण लेते है। चूँकि lockdown के कारण अधिकांश लोगों ने घर से ही काम करना शुरू कर दिया था तथा इस कारण अनेक लोगों ने ऑनलाइन प्लेटफार्म Furlenco से टेबल्स तथा कुर्सियों का ऑर्डर किया। अब Furlenco अपने Vendors को यह ऑर्डर तो दे देता है लेकिन उनको पेमेंट देने में अभी समर्थ नहीं है क्योंकि ग्राहकों से पेमेंट तो अगले कुछ महीनों में आएगा तथा वो भी धीरे धीरे किश्तों में आएगा। इसलिए Furlenco अपने Vendor को यह कहेगा कि उसको पेमेंट 5 महीनों बाद दिया जाएगा।

अब वो Vender TradeCred प्लेटफार्म पर जाकर अपना Furlenco का Invoice कुछ डिस्काउंट के साथ बेचना चाहेगा। अब जो भी Third Party निवेशक इस Invoice को खरीदेगा वो यह चेक करेगा कि एक स्टार्टअप होने के नाते Furlenco उनके Invoice की अमाउंट का भुगतान कर पाएगा या नहीं? इस प्रकार की रिसर्च के बाद ही निवेशक यह फैसला लेगा कि उसको निवेश करना चाहिए या नहीं?

3. Dishonourable Invoice

कभी कभी किसी कंपनी को ऐसा लगता है कि उन्होंने जिस दूसरी कंपनी के लिए काम किया है वो उनका भुगतान नहीं कर पाएगी। इसलिए वो उस Invoice को इन प्लेटफॉर्म्स पर आकर निवेशकों को बेचकर धनराशि इकठ्ठी कर लेते है। इस प्रकार की स्थिति को ही Dishonourable Invoice कहते है।

4. Disputed Invoice

कभी कभी ऐसा होता है जब कोई बड़ी कंपनी किसी छोटी कंपनी को कोई Order करती है लेकिन जब वो प्रोडक्ट प्राप्त करती है तो प्रोडक्ट की Quality उतनी अच्छी नहीं होती। इसके कारण दोनों कंपनियों में एक विवाद पैदा हो सकता है तथा बड़ी कंपनी छोटी कंपनी को Invoiice में अंकित राशि से कम राशि का भुगतान भी कर सकती है। इसके कारण इन्वेस्टर को काफी नुकसान हो सकता है।

इस समस्या के समाधान के लिए इन्वेस्टर्स को उस प्लेटफार्म के बारे में अच्छे से जान लेना चाहिए जो इन्वेस्टर्स को Invoices प्रदान करता है। कुछ प्लेटफॉर्म्स में Background से इन सारी चीजों की मॉनिटरिंग भी होती रहती है कि कौनसी पार्टी किस पार्टी के साथ डील कर रही है ताकि यह पता लगाया जा सकें कि सभी Invoices बिल्कुल वैध है तथा किसी भी प्रकार की बेईमानी नहीं की जा रही है। इस प्रकार विवाद की सम्भावना कम हो जाती है।

यह फिर भी एक अच्छा विकल्प क्यों है ?

Invoice Discounting के लिए TradeCred एक अच्छा विकल्प है। इसका कारण यह है कि TradeCred की एक सहायक कंपनी Orowealth भी इस काम में TradeCred की सहायता करती है ताकि पारदर्शिता बनी रहे।

  • Orowealth अपने निवेशकों को 5 लाख रूपये तक की Instant Liquidity प्रदान करती है। अगर कोई निवेशक Credit Period के पूरे होने से पहले ही अपने पैसे प्राप्त करना चाहता है तो Orowealth उनकी निवेश राशि को लौटा देता है तथा ब्याज दर 1-1.5% कम दी जाती है। Invoice कैसा भी हो, इन 5 लाख रुपयों की गारंटी Orowealth द्वारा अपने निवेशकों को दी जाती है।
  • अगर कोई कंपनी Invoice की राशि का भुगतान करने में असक्षम रहती है तो इस पूरे घाटे का खामियाजा अकेले निवेशक को नहीं भुगतना पड़ेगा। इस स्थिति में Orowealth उस कंपनी के सभी Invoices की जाँच करेगी तथा जब तक कुल Losses 8% से ऊपर नहीं जाते तब तक इन्वेस्टर को बिल्कुल भी घाटा नहीं लगेगा। अगर हम पिछले 8-10 सालों की बात करें तो यह Overall Loss लगभग 1-2% के बीच ही रहता है।

Invoice Discounting में निवेश कैसे करें?

  • सबसे पहले TradeCred वेबसाइट जाकर अपना अकाउंट बनाए।
  • Header Tab पर जाकर Investor पर क्लिक करें तथा log in करें।
  • अपने पैन कार्ड की जानकारी दर्ज करें इसके बाद आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक OTP आएगा तथा इसके बाद आप अपने अकाउंट में लॉगिन कर पाओगे।
  • पेज के दाहिनी तरफ Current Deals पर क्लिक करें जिससे आपको सभी उपलब्ध डील्स की जानकारी मिल जाएगी।
  • प्रत्येक डील पर Orowealth के लोगो तथा Zero Cost instant Liquidity Badge की जाँच करें। इससे आपको यह पता लग जाएगा कि यह Invoice Orowealth द्वारा गारंटीड है तथा 5 लाख तक के निवेश के लिए सुरक्षित है।

  • इसके बाद अगर आप Invoice का भुगतान करने वाली कंपनी के बारे में जानना चाहते है तो Deal Report पर क्लिक करें। इससे आपको उस कंपनी की TradeCred पर पेमेंट की हिस्ट्री की जानकारी मिलेगी तथा कंपनी से सम्बंधित अन्य जानकारी भी मिलेगी। यहां पर आपको उस Vendor की जानकारी भी मिलेगी जिसने इस प्लेटफार्म पर यह Invoice बेचा है।

  • डील में आपको कुल IRR (Internal Rate of Return) भी दिखाई जाती है जो कि आपकी वार्षिक ब्याज दर है।

  • Invoice की कुल निवेश राशि देखने के लिए आप Deal Summary पर क्लिक कर सकते है। यहां पर आपको इसकी IRR, Invoice की Tentative Due Date तथा Maturity Value भी दिख जाएगी।

  • इसके आलावा कुछ Deals ऐसी भी होती है जो बिना किसी बीच के Vendor के TradeCred पर आती है तथा इन पर कंपनी का लोगो होता है।

  • इसके बाद अपने Wallet में फंड्स जमा करके अपना मनपसंद Invoice खरीद सकते है।

Invoice Discounting के फायदे

  • यह एक शॉर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट स्कीम है जिसमे आपको अपने इन्वेस्टमेंट को कई सालों तक lock-in करने की जरूरत नहीं पड़ती तथा रिटर्न भी अच्छे मिलते है।
  • आप अपने इन्वेस्टमेंट की रिस्क भी खुद के हिसाब से मैनेज कर सकते हो। कम रिस्क के लिए आप Orowealth Guarantee plan में जा सकते हो या फिर बड़ी कंपनियों के Invoices खरीद सकते हो। लेकिन अगर आप ज्यादा रिस्क लेने को तैयार है तो आप कुछ छोटी कंपनियों के Invoices भी खरीद सके हो जहां आपको रिटर्न भी ज्यादा मिलता है।
  • यहां पर हम अपने पोर्टफोलियो को Diversify कर सकते हो तथा यह किसी भी प्रकार से स्टॉक मार्किट से सम्बंधित नहीं है।

अगर आप अपनी कंपनी के लिए समय और उपस्थिति शीट को ऑटोमेट करना चाहते हैं, तो हमारे लेख ‘एक्सेल में ऑटोमेटेड अटेंडेंस शीट कैसे बनाएँ‘ को जरूर पढ़ें। इससे आपको अपने संसाधनों का प्रबंधन करने में आसानी होगी।

Invoice Discounting के नुकसान

  • यहां पर निवेश शुरू करने के लिए आपके पास कम से कम 50,000 रूपये होने चाहिए। जिस प्रकार से आप शेयर मार्किट में 500 रूपये से भी निवेश स्टार्ट कर देते हो वैसा यहां नहीं होता।

छोटे व्यवसायों के लिए कर नियोजन भी महत्वपूर्ण है। हमारे लेख ‘छोटे व्यवसायों के लिए कर नियोजन‘ में आपको करों की योजना बनाने की महत्वपूर्ण जानकारी मिलेगी, जिससे आप अपने व्यवसाय के लिए लाभ उठा सकते हैं।

इसके बारे में ज्यादा जानने के लिए आप हमारे इस वीडियो को देख सकते हो –

ऐसे ही बहुत सारे ज्ञानवर्धक आर्टिकल्स हिंदी भाषा में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें – हिंदी आर्टिकल्स

लगातार अपडेट पाने के लिए आप हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्वाइन कर सकते है – t.me/JoinLLA 

Heena Siddique
Heena Siddique
Bibliophile. Turophile. Foodie. Tea enthusiast. Shopaholic. Sitcom addict. Movie buff.

Related Blogs

Financial Advisor

spot_img

Follow Us

163,762FansLike
467,897FollowersFollow
35,109FollowersFollow
4,089,574SubscribersSubscribe

Jagruk Investor

Jagruk Employees

Despite its rich colors and traditions, India faces a growing problem: scams. With advancements in technology and AI, scammers are becoming increasingly sophisticated, making...

Don't Miss

Recent Comments